SexKahani.Desi

– Antarvasna Hindi Sex Stories - Kamukta Non Veg Story - Hindi Sex Kahaniya & Sex Pictures - Indian Sex Stories

Advertisements

परेशान कामवाली

मेरा लुनद है 7 इनच का , ओर असतिवे है लसत 22 सल से, आप इस पेर विशवस नहि करेनगे। मैं अभि आप को मेरा बहुत फ़रेश एक्सपेरिएनसे लिख रहा हु ।ये बत है 21/8/2005 कि। ये कहनि है मैद को सेदुसे कर के उसे मेरि कीप बनने कि। मेरे घर पेर मैद है । उमर है बिस कि। नम है वैशलि । वो लगति है जैसे इतेम सोनग गिरल। मुझे पता था वो विरगिन (कुनवरि) है। सलि बहुत जवन है। उसके गाल पेर का कला तिल मुझे पेरेशन करता था। पिछले दो महिनो से मैं उस पेर जाल बिछा रहा था।मेरे बेदरूम कि सफ़ै वो करति है । मेरि बिबि 9।00 बजे ओफ़्फ़िसे जति है। मेरि पेहलि चल थि के मैं सुबह बथरूम मे मूथ मर मेरि फ़रेनचि गिलि करता और उसपर थोदा और थुकता । वो फ़रेनचि मैं दरवजे के पिछे लतका देता । कपदे धोने के लिये वैशलि उसे हाथ मे लेति थि। मेरि चद्दि को थिक से देखति भि थि। मैं सहि जा रहा था ।

यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप SexKahani.Desi पर पढ़ रहे हैं!

फिर एक दिन मैने मेरे निघत पनत का निचे का बुतन तोदा। उस दिन मैं 9।45 तक सोता रहा। फिर मैने मेरा लुनद गोतियोन के साथ पजमेसे बहर निकला।और मैं पेत के बल सोने का नतक किया। मेरि गोतियन मेरे पैरोके बीच से दिख रहि थि । वैशलि 9।15 को मेरे बेदरूम मे आयि , उसकि नजर मुझ पर पदि और वो गोतिया देखति रहि । मुझे ये सब वरदरोबे के अनदर के मिर्रोर मैं दिख रहा था। उसने दो मिनुते तक देखा फिर वो और नजदिक आयि और उसने और गौरसे देखा। उसने इधर उधर का अनदज लेकर अपने लेफ़त मम्मे को दबया। फिर उसने रिघत हनद आगे बधया और गोतियोको छूना चहा पेर फिरसे हथ हता लिया । वो निचे चलि गयि । मैं उथा बथरूम मैं जकर मेरा रोजका कम किया।आज मैं बहुत खूश था। उसकि आग और भदकने कि सोचा । बरुश करने के बाद निचे जकर उस्से चै पि और उसे गरम पनि बथरूम मे देने को कहा। वो नजरे नहि मिला रहि थि । मैं बथरूम मे गया। शविनग कि। एकदुम से मुझे नया इदेअ कलिक किअ। मैने मेरे उनदेररम पेर शविनग सरèमे लगया और उसकि रह देखता रहा। मैने सिरफ़ मेरे कमर पेर तोवेल लपेता था। जैसे वो आने कि आहत सुनै दि। मैने मेरा हाथ उथया और शविनग शुरु किअ । उसने बलति रखते हुइ कहा “सिर, पनि” और वो शरमकर भग गयि। मैने उसके बाद शरमने का नतक किअ।

ये सब मुझे अस्सह्हा लग रहा था। फिर 4 दिन मैने सेदुसे नहि किअ। वैशलि मे चनगेस आ रहे थे। वो अब सज के आने लगि थि। ये चिदिअ फस रहि थि। मुझे मलुम था आगे कया करना है। मेरे पास क्सक्सक्स पिसतुरे बूकस और सद है। उसमे से दो बहुत गनदि बूकस मैने मेरे इसत्रि के शिरतस के निचे रख दि। ऐसा लग रहा था जैसे चुपयि हो। मैने बदे धयन से रखा और पगेस को खोल के रखा। मैं मेरे ओफ़्फ़िसे के लिये चला गया। उस दिन मैं 4।00 बजे लौता । बेल्ल दबने पेर दरवजा खोलने मे देर लगि । मैं एक्ससिते हो रहा था । दरवजा खुलते हि मैने वैशलि को नोतिसे किअ। गरम औरत एकदुम थनदि होने पेर जैसि दिखति है वैसे वो दिख रहि थि। मैने पुछा “ सो रहि थि कया?” उसने कहा “ हा “। मैं बेदरूम मे गया , बूकस देखे । बूकस को गदबदि मैं रखा गया था। मैने सतैरससे के कोने से निचे देखा तो वो बेदरूम का अनदजा ले रहि थि। मैं वपस चला गया और 5 बजे लौता। अब बूकस थिक से रखे थे । वैशलि अब सोमफ़ोरतबले दिख रहि थि। अब मैं रोज वहा पेर बूकस रखने लगा और उसे तदपने लगा। इसका मुझे आगे जकर फयदा हुअ कयोनकि बूकस मैं सुब तरह कि तसविरे थि जैसे दो लेसबिअन, गनद कि चुदै, लुनद चतना और सुब कुछ। अब मैं दोपहर को घरपर कम करने लगा।

वैशलि तदप उथि। उसकि फ़रुसत्रतिओन मेहसूस हो रहि थि। वो अब बूकस नहि देख पा रहि थि। मैं मेरे पस पेर अब दोपहर मे क्सक्सक्स सद देखता था । और मूथ मरता था। वैशलि ये सब चुपके से देखे ऐसा बनदोबसत मैने किअ । मुझे यकिन था वैशलि इसमे भि फसेगि। लेकिन इसके लिये मुझे 12 दिन वैत करना पदा। उस दिन मैने मेहसूस किअ के वैशलि दरवजे कि चिर मे से झाक रहि थि। उस दिन मैं गनद मरने वलि बफ़ देख रहा था। वैशलि ने मेरा फ़वरा उदते हुए देखा। मैने मेरा सुम मेरे छति पेर मल दिया। और पुरपोसेली थोदा चतने का नतक किया। पस बनद किअ, कपदे थिक किये और ओफ़्फ़िसे के लिये चल पदा। निचे आते हि मैने नोतिसे किया कि वो मेरे लुनद के जगह को चोरिसे देखि थि। अब एक दिन बाद इस सब मेहनत का मीथा फल चखने का मैने फैसला किअ कयोनकि मेरि बिबि मुमबै जा रहि थि मौसि के पास पूजा के लिये। मैने बिबि को पुने सततिओन पेर सुबह 6 बजे बुस मे बिथा दिया। घर आ कर वैशलि के मिथे खवबमे सो गया । 8 बजे उथा। वैशलि आज 8।15 को आयि। मैं बरुश करके उस से चै पिअ। आखरि बर सेदुसे करके उसपेर चधने के लिये बेतब था। मैने मेरा त्रिम्मेर चलु करके मेरे झत कत दिये और तोइलेत पेर गिरा दिये। फिर बथरूम मे आकर नहया। निचे आकर वैशलि से नशता लिया। उसको कहा “मैं आज ओफ़्फ़िसे नहि जऊनगा , उपर सोमपुतेर पेर काम करुनगा।” उपर आतेहि मैने दरवजेके सतोप्पेर को और मेरे पस चैर को धगा बानध दिअ तकि जब मैं चैर हिलौ तो दरवजा खुले। 11 बजे मैने सोमपुतेर ओन किअ । दो बर दरवजा खुलने का चेसक किअ। 11।30 के करिब वैस्सहलि उपर आयि। तोइलेत मे गयि। 5 मिनुते बाद उसने फ़लुश किअ। उसने मेरे झत जरूर देखे।

यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप SexKahani.Desi पर पढ़ रहे हैं!

Rate this post

Advertisements

Disclaimer: This site has a zero-tolerance policy against illegal pornography. All porn images are provided by 3rd parties. We take no responsibility for the content on any website which we link to, please use your won discretion while surfing the links. All content on this site is for entertainment purposes only and content, trademarks and logo are property fo their respective owner(s).

Statutory Warning: This site is just for fun fictional stories on the site | All the stories sent by readers, is published on the site | Readers can view the personal stories | None of these stories to the editor or managing the class association | To use this website, you must be over 18 years of age, and you should have full adult Cetradikar legally or according to where you are using this website if you do not meet these requirements, If you do not have permission to use this website | Any item that is presented on this website, we do not claim to be their own |

Terms of service | Privacy PolicyContent removal (Report Illegal Content) | Disclaimer